Kundli Milan Dosh Nivaran : Why is important for marriage ? - dharam.tv

October 1, 20191min7020

Kundli Milan Dosh Nivaran :Why horoscope matching is important for marriage

Kundli Milan : विवाह के लिए कुंडली मिलान जरुरी क्यों होता है ? कहते हैं कि जोड़ियां संयोग से बनती हैं जो कि परमात्मा द्वारा पहले से ही तय होती हैं। मगर हर माता-पिता बच्चों की शादी की को लेकर तमाम भागदौड़ करते है. , जैसे ही कोई रिश्ता आता है तो सबसे पहले लड़की और लड़के की कुंडली का मिलान (Kundli ka Milan) किया जाता है दरअसल माता-पिता यह चाहते हैं कि उनकी बेटी या बेटे की शादी होने के बाद उनका जीवन सुखमय और सौहार्दपूर्ण रहे। दोनों में वैचारिक मतभेद न हों और वे तरक्की करें। लेकिन कई बार  शादी होने के बाद यदि पति-पत्नी के बीच क्लेश और विवाद होने लगता है और नौबत तलाक तक  आ जाती है. आखिर जन्म कुंडली के मिलान से ज्योतिषी क्या निष्कर्ष निकाते है आईये आपको बताते हैं –

 कुंडली (Kundli) में कुछ बाधक योगों का होना

विवाह के बाद यदि दांपत्य सुख न मिले या पति-पत्नी के बीच मतभेद जीवनपर्यन्त चलते रहें, आपसी सामंजस का अभाव हो, तो इसका ज्योतिषीय कारण हो सकता है। क्योंकि बाधक योग होने पर ही पति-पत्नी के बीच वैचारिक मतभेद होते हैं और उनमें एक-दूसरे के प्रति भावनात्मक लगाव कम होने लगता है। यदि ऎसी स्थिति किसी के साथ हो तो भयभीत नहीं हों, इन बाधक योगों के उपचार कर लेने से प्रतिकूल प्रभावों में कमी आती है। दांपत्य सुख में बाधक योग कौन से संभव हैं और उनका परिहार ज्योतिष में क्या बताया गया है इसे इस वीडियो के माध्यम से समझें।

Kundli Milan

Read Also: आइये घर बैठे केपी एस्‍ट्रोलॉजी सीखें – आचार्य पं भवानी शंकर वैदिक 

कुंडली (Kundli) का सातवां घर

जन्मकुंडली में विवाह का विचार सातवें भाव से होता है। इस भाव से पति एवं पत्नी, काम (भोग विलास), विवाह से पूर्व एवं पश्चात यौन संबंध, साझेदारी आदि का विचार मुख्य रूप से किया जाता है। कुंडली का सातवां घर ही यह बताता है कि विवाह किस उम्र में होगा। शादी के लिए दिशा कौन सी उपयुक्त रहेगी जहां प्रयास करने पर जल्द ही शादी हो सके। सप्तम यानी केन्द्र स्थान विवाह और जीवनसाथी का घर होता है. इस घर पर अशुभ ग्रहों का प्रभाव होने पर या तो विवाह विलम्ब से होता है या फिर विवाह के पश्चात वैवाहिक जीवन में प्रेम और सामंजस्य की कमी रहती है.

जिनकी कुण्डली में ग्रह स्थिति कमज़ोर हो और मंगल एवं शुक्र एक साथ बैठे हों उनके वैवाहिक जीवन में अशांति और परेशानी बनी रहती है. ग्रहों के इस योग के कारण पति पत्नी में अनबन रहती है.

Read Also : घर बैठे सीखें केपी एस्‍ट्रोलॉजी -जानिए ग्रह नक्षत्र की चाल

शनि और राहु का सप्तम भाव होना भी वैवाहिक जीवन के लिए शुभ नहीं माना जाता है क्योंकि दोनों ही पाप ग्रह दूसरे विवाह की संभावना पैदा करते हैं.
राहु, सूर्य, शनि व द्वादशेश पृथकतावादी ग्रह हैं, जो सप्तम (दाम्पत्य)और द्वितीय (कुटुंब) भावों पर विपरीत प्रभाव डालकर वैवाहिक जीवन को नारकीय बना देते हैं। दृष्टि या युति संबंध से जितना ही विपरीत या शुभ प्रभाव होगा उसी के अनुरूप वैवाहिक जीवन सुखमय या दुखमय होगा।
राहु की दशा में शादी हो,या राहु सप्तम को पीडित कर रहा हो,तो शादी होकर टूट जाती है,यह सब दिमागी भ्रम के कारण होता है।
Liked it? Take a second to support Arvind Sharma on Patreon!




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


About us

AMSG MEDIA INFOLINE is a knowledge centric organization, hosting one of its kinds of website “dharam.tv” we are providing premium online information services in field of Religious, Ritual, Spirituality, Festivals & Cultural Activities, Astrologers, Guru, Pandit and related information’s in line. Our motto is for spreading knowledge that is useful to everyone.


CONTACT US

CALL US ANYTIME


Liked it? Take a second to support Arvind Sharma on Patreon!