इस बार कब है करवा चौथ, कितनी देर रहेगा पूजा का मुहूर्त और कब होगा चंद्रोदय

October 24, 20181min1610

कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को करवा चौथ का त्योहार मनाया जाता है। इस दिन विवाहित महिलाएं अपने पति की लंबी आयु और सलामती के लिए व्रत रखती हैं। वहीं कुंवारी लड़कियां भी अच्छे वर के लिए इस दिन व्रत रखती हैं। इस बार करवा चौथ शनिवार सत्ताईस अक्टूबर को मनाया जाएगा। इस दिन महिलाएं पूरे दिन व्रत रखती हैं और रात को चांद देखकर उसे अर्घ्य देकर व्रत खोलती हैं।दांपत्य जीवन से जुड़े अहम त्योहार या यूं कहें व्रत का नाम है करवा चौथ।

करवा चौथ मुहूर्त

करवा चौथ पूजा मुहूर्त:

5:40 से  6:47 तक

करवा चौथ चंद्रोदय समय

7 बजकर 55 मिनट

READ ALSO : ऐसे करें करवा चौथ पूजन

करवा चौथ चंद्रोदय का समय है सात बजकर पचपन मिनट, दांपत्य जीवन से जुड़े अहम त्योहार या यूं कहें व्रत का नाम है करवा चौथ। करवा शब्द का अर्थ मिट्टी का बर्तन होता है। चौथ का शाब्दिक अर्थ चतुर्थी है। इस दिन विवाहित महिलाएं पति की लंबी उम्र और सफलता की मनोकामना पूरी होने के लिए कठिन व्रत रखती हैं। वहीं, अविवाहित युवतियां सुयोग्य वर की कामना के लिए इस व्रत को धारण करती हैं। इस दिन महिलाएं पूरे दिन व्रत रखती हैं। यहां तक कि वो जल ग्रहण भी नहीं करतीं। शाम को जब चद्रोदय होता है यानी चांद निकल आता है तो उसे अर्घ्य अर्पित करने के बाद व्रत खोलती हैं। 
अब बात चंद्रोदय यानी चांद के दिखने की। क्योंकि चांद को अर्घ्य देकर ही व्रत खोला जाता है। इस बार चंद्रोदय शाम सात बजकर पचपन मिनट पर होगा। 
उत्तर भारत में व्रत: उत्तर भारत में करवा चौथ के व्रत को ज्यादातर महिलाएं करती हैं। पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश में इसकी काफी मान्यता है। यूपी और राजस्थान में इसी दिन गौर पूजा भी की जाती है।

कब खोलें व्रत

अब बात चंद्रोदय यानी चांद के दिखने की। क्योंकि चांद को अर्घ्य देकर ही व्रत खोला जाता है। इस बार चंद्रोदय शाम सात बजकर पचपन मिनट पर होगा। 
उत्तर भारत में व्रत: उत्तर भारत में करवा चौथ के व्रत को ज्यादातर महिलाएं करती हैं। पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश में इसकी काफी मान्यता है। यूपी और राजस्थान में इसी दिन गौर पूजा भी की जाती है।