रत्नों का संसार अनूठा

May 28, 20171min8320

 

प्राचीन ग्रन्थों के अनुसार उच्च कोटि में 84 प्रकार के रत्न आते हैं। इनमें से बहुत से रत्न अब अप्राप्य हैं तथा बहुत से नए-नए रत्नों का आविष्कार भी हुआ है। वर्तमान समय में प्राचीन ग्रंथों में वर्णित रत्नों की सूचियाँ प्रामाणिक नहीं रह गई है।
रत्न कोई भी हो अपने आपमें प्रभावशाली होता है। मनुष्य अनादिकाल से ही रत्नों की तरफ आकर्षित रहा है, वर्तमान में भी है तथा भविष्य में भी रहेगा। रत्न शरीर की शोभा आभूषणोंके रूप में तो बढ़ाते ही हैं और कुछ लोगों का मानना है की रत्न अपनी दैवीय शक्ति के प्रभाव के कारण रोगों का निवारण भी करते हैं। इन रत्नों से जहाँ स्वयं को सजाने-सँवारने की स्पर्धा लोगों में पाई जाती है वहीं संपन्नता के प्रतीक ये अनमोल रत्न अपने आकर्षण तथा उत्कृष्टता से सबको वशीभूत कर विश्व व्यापी से बखाने जाते हैं। रत्न और जवाहरात के नाम से जाने हुए ये खनिज पदार्थ विश्व की बहुमूल्य राशी हैं, जो युगों से अगणित मनों को मोहते हुए अपनी महत्ता बनाए हुए हैं।
हर रत्न का है अलग प्रभाव
अन्यथा गलत रत्न धारण करना बड़ी मुसीबत ला सकता है। एक बात और, रत्न हर कोई नहीं पहन सकता। जिसके लिए जो रत्न बना है, वही पहनना चाहिए। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार रत्न जातक की कुंडली का विवेचन करने के पश्चात ही धारण किया जाना चाहिए।
रत्नों की शक्ति
ज्योतिष शास्त्र की एक विशेष विधा ‘लाल किताब’ में भी रत्नों का महत्व समझाया गया है, जिसके अनुसार रत्नों में ग्रहों की उर्जा को अवशोषित करने की अद्भुत क्षमता होती है। रत्नों में विराजमान अलौकि गुणों के कारण रत्नों को ग्रहों का अंश भी माना जाता है
सामान्य तौर पर ग्राहों-नक्षत्रों के अनुसार ज्योतिष में मात्र नवरत्नों को ही लिया जाता है। इन रत्नों के उपलब्ध न होने पर इनके उपरत्न या समान प्रभावकारी रत्नों का प्रयोग किया जाता है। भारतीय मान्यता के अनुसार कुल 84 रत्न पाए जाते हैं, जिनमें माणिक्य, हीरा, मोती, नीलम, पन्ना, मूँगा, गोमेद, तथा वैदूर्य (लहसुनिया) को नवरत्न माना गया है। ये रत्न ही समस्त सौरमण्डल के प्रतिनिधि माने जाते हैं। यहीं कारण है कि इन्हें धारण करने से शीघ्र फल की प्राप्ति होती है।
माणिक्य रत्न
माणिक्य सूर्य ग्रह का रत्न है। माणिक्य को अंग्रेज़ी में ‘रूबी’ कहते हैं। यह गुलाबी की तरह गुलाबी सुर्ख श्याम वर्ण का एक बहुमूल्य रत्न है और यह काले रंग का भी पाया जाता है। इसे सूर्य-रत्न की संज्ञा दी गई है। अरबी में इसको ‘लाल बदख्शां’ कहते हैं। यह कुरुंदम समूह का रत्न है। गुलाबी रंग का माणिक्य श्रेष्ठ माना गया है।
पन्ना
पन्ना बुध ग्रह का रत्न है। पन्ना को अंग्रेज़ी में ‘एमेराल्ड’ कहते हैं जो कई रंगों में पाया जाता है। यह हरा रंग लिए सफ़ेद लोचदार या नीम की पत्ती जैसे रंग का पारदर्शक होता है। नवरत्न में पन्ना भी होता है। हरे रंग का पन्ना सर्वश्रेष्ठ माना जाता है। पन्ना अत्यंत नरम पत्थर होता है तथा अत्यंत मूल्यवान पत्थरों में से एक है। रंग, रूप, चमक, वजन, पारदर्शिता के अनुसार इसका मूल्य निर्धारित होता है।[1]
हीरा

हीरा शुक्र ग्रह का रत्न है। अंग्रेज़ी में हीरा को ‘डायमंड’ कहते हैं। हीरा एक प्रकार का बहुमूल्य रत्न है जो बहुत चमकदार और बहुत कठोर होता है। यह भी कई रंगों में पाया जाता है, जैसे- सफ़ेद, पीला, गुलाबी, नीला, लाल, काला आदि। इसे नौ रत्नों में सर्वश्रेष्ठ माना जाता है। हीरा रत्न अत्यन्त महंगा व दिखने में सुन्दर होता है। सफ़ेद हीरा सर्वोत्तम है और हीरा सभी प्रकार के रत्नों में श्रेष्ठ है। हीरे को हीरे के कणों के द्वारा पॉलिश करके ख़ूबसूरत बनाया जाता है।[2]
नीलम
नीलम शनि ग्रह का रत्न है। नीलम का अंग्रेज़ी नाम ‘सैफायर’ है। नीलम रत्न गहरे नीले और हल्के नीले रंग का होता है। यह भी कई रंगों में पाया जाता है; मसलन- मोर की गर्दन जैसा, हल्का नीला, पीला आदि। मोर की गर्दन जैसे रंग वाला नीलम उत्तम श्रेणी का माना जाता है। नीलम पारदर्शी, चमकदार और लोचदार रत्न है। नवरत्न में नीलम भी होता है। शनि का रत्न नीलम एल्यूमीनियम और ऑक्सिजन के मेल से बनता है। इसे कुरुंदम समूह का रत्न माना जाता है।[3]
मोती


मोती चन्द्र ग्रह का रत्न है। मोती को अंग्रेज़ी में ‘पर्ल’ कहते हैं। मोती सफ़ेद, काला, आसमानी, पीला, लाला आदि कई रंगों में पाया जाता है। मोती समुद्र से सीपों से प्राप्त किया जाता है। मोती एक बहुमूल्य रत्न जो समुद्र की सीपी में से निकलता है और छूटा, गोल तथा सफ़ेद होता है। मोती को उर्दू में मरवारीद और संस्कृत में मुक्ता कहते हैं।
लहसुनिया

लहसुनिया केतु ग्रह का रत्न है। लहसुनिया रत्न में बिल्लि की आँख की तरह का सूत होता है। इसमें पीलापन्, स्याही या सफ़ेदी रंग की झाईं भी होती है। लहसुनिया रत्न को वैदूर्य भी कहा जाता है।
मूँगा

मूँगा मंगल ग्रह का रत्न है। मूँगा को अंग्रेज़ी में ‘कोरल’ कहा जाता है, जो आमतौर पर सिंदूरी लाल रंग का होता है। मूँगा लाल, सिंदूर वर्ण, गुलाबी, सफ़ेद और कृष्ण वर्ण में भी प्राप्य है। मूँगा का प्राप्ति स्थान समुद्र है। वास्तव में मूँगा एक किस्म की समुद्री जड़ है और मूँगा समुद्री जीवों के कठोर कंकालों से निर्मित एक प्रकार का निक्षेप है। मूँगा का दूसरा नाम प्रवाल भी है। इसे संस्कृत में विद्रुम और फ़ारसी में मरजां कहते हैं।
गोमेद
गोमेद राहु ग्रह का रत्न है। गोमेद का अंग्रेज़ी नाम ‘जिरकॉन’ है। सामान्यतः इसका रंग लाल धुएं के समान होता है। रक्त-श्याम और पीत आभायुक्त कत्थई रंग का गोमेद उत्त्म माना जाता है। नवरत्न में गोमेद भी होता है। गोमेद रत्न पारदर्शक होता है। गोमेद को संस्कृत में गोमेदक कहते हैं।
पुखराज

पुखराज गुरु ग्रह का रत्न है। पुखराज को अंग्रेज़ी में ‘टोपाज’ कह जाता हैं। पुखराज एक मूल्यवान रत्न है। पुखराज रत्न सभी रत्नों का राजा है। यह अमूनन पीला, सफ़ेद, तथा नीले रंगों का होता है। वैसे कहावत है कि फूलों के जितने रंग होते हैं, पुखराज भी उतने ही रंग के पाए जाते हैं। पुखराज रत्न एल्युमिनियम और फ्लोरीन सहित सिलिकेट खनिज होता है। संस्कृत भाषा में पुखराज को पुष्पराग कहा जाता है। अमलतास के फूलों की तरह पीले रंग का पुखराज सर्वश्रेष्ठ माना जाता है।

फ़िरोजा जेम

ज्योतिष शास्त्र में रत्न पहन कर ग्रहों के बुरे प्रभाव को कम किया जाता है। वहीं ग्रहों को मजबूती प्रदान करने के लिए विभिन्न रत्न पहने जाते हैं। रत्न तो कई प्रकार के होते है जैसे नीलम, पन्ना, मूंगा आदि। लेकिन इनके आलावा और भी रत्न होते है जिन्हें भले ही सस्ते रत्न कहा जाता है लेकिन इनका असर काफी तेज होता है। आज हम आपको फिरोजा रत्न के बारे में बता रहे है।
यह रत्न फिरोजी रंग का होता है। कहा जाता है कि यह रत्न प्रेम संबंधों को सुधारता है। इसके अलावा इससे रोगों से भी मुक्ति मिलती है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार फिरोजा रत्न धनु और मीन राशि वालों को जरूर पहनना चाहिए। इसके अलावा वे लोग जिनकी कुंडली में बृहस्पति ग्रह कमजोर हो, उन्हें भी यह रत्न धारण करना चाहिए। यह बृहस्पति ग्रह को मजबूती प्रदान करता है।
इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं तथा इन्हें अपनाने से अपेक्षित परिणाम मिलेगा। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।

भूलकर भी नहीं पहनें ऐसा पन्‍ना


यदि पन्‍ना रेखाओं का जाल लिए हो, आभारहित हो, छोटी-छोटी धारियां हों, गड्ढा, खुरदरापन एवं फीका रंग रूप लिए हो अथवा कोई एक सीधी रेखा खड़ी हो, दो प्रकार के रंग हों, पीले या लाल रंग के बिन्दु मौजूद हों, सोने या शहद के रंग के दाग धब्बे रत्न पर स्थित हों तो ऐसा पन्‍ना दोषयुक्‍त होता है। सदोष पन्‍ना नहीं पहनना चाहिए। पीला पन्ना कदापि नहीं पहनना चाहिए। आभाहीन, गड्ढेदार एवं धारियों से युक्त पन्ना भूलकर भी नहीं पहनें। इस अवस्था में पन्ना रत्न मादकतावर्धक होता है।
आयुर्वेद के मतानुसार पन्ना रत्न अतिश्रेष्ठ रत्न की श्रेणी में शुमार है। यह विषनाशक एवं ज्वरनाशक तथा बवासीर व सन्निपात के उपचार में भी उपयोग किया जाता है। शक्तिवर्धक के रूप में भी यह प्रयुक्त होता है। मूत्र सम्बंधित रोगों में पन्ना रत्न की भस्म का सेवन बहुत ही लाभकारी सिद्ध होता है।
(इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं तथा इन्हें अपनाने से अपेक्षित परिणाम मिलेगा। ये जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं





About us

AMSG MEDIA INFOLINE is a knowledge centric organization, hosting one of its kinds of website “dharam.tv” we are providing premium online information services in field of Religious, Ritual, Spirituality, Festivals & Cultural Activities, Astrologers, Guru, Pandit and related information’s in line. Our motto is for spreading knowledge that is useful to everyone.


CONTACT US

CALL US ANYTIME